राजनीति

[राजनीति][list]

समाज

[समाज][bleft]

साहित्‍य

[साहित्‍य][twocolumns]

सिनेमा

[सिनेमा][grids]
भारत में हमें धन कौन देता है? इसीलिए... मैं अमेरिका चला आया।  -स्वामी विवेकानंद

भारत में हमें धन कौन देता है? इसीलिए... मैं अमेरिका चला आया। -स्वामी विवेकानंद

 
भारत भीतर और बाहर से एक सड़े हुए मुर्दे के समान है।  -स्वामी विवेकानंद

भारत भीतर और बाहर से एक सड़े हुए मुर्दे के समान है। -स्वामी विवेकानंद

  भारत भीतर और बाहर से एक सड़े हुए मुर्दे के समान है। श्री गुरुदेव के आशीर्वाद से - Swami Vivekanand       Caste of indian Saint - किस ज...
सूर्य के श्रम को देखो, जो चलते हुए कभी आलस्य नहीं करता : चरैवेति-चरैवेति

सूर्य के श्रम को देखो, जो चलते हुए कभी आलस्य नहीं करता : चरैवेति-चरैवेति

भारत भीतर और बाहर से एक सड़े हुए मुर्दे के समान है। श्री गुरुदेव के आशीर्वाद से - Swami Vivekanand       Caste of indian Saint - किस जाति क...
शादी को लेकर कोई समस्या हो, तो ये पांच फिल्में जरूर देखें। Watch Five Films For Happy Marriage Life

शादी को लेकर कोई समस्या हो, तो ये पांच फिल्में जरूर देखें। Watch Five Films For Happy Marriage Life

 
Girl Friend चाहिए तो ये पांच फिल्में जरूर देखें///Must Watch Five Films For Girl Friend

Girl Friend चाहिए तो ये पांच फिल्में जरूर देखें///Must Watch Five Films For Girl Friend

 
दलित स्त्री का प्रश्न : अंशु सिंह झरवाल

दलित स्त्री का प्रश्न : अंशु सिंह झरवाल

हिन्दी में दलित लेखन की शुरूआत सन् 1980 तक हो चुकी थी। दलित लेखन का पहला युग तमाम प्रश्नों और सैद्धान्तिक मुद्दों के शमन, दमन और समाधान में ...
 दलित समुदाय  उत्पीडन, संघर्ष और संवैधानिक अधिकार : डॉ. उमा मीना

दलित समुदाय उत्पीडन, संघर्ष और संवैधानिक अधिकार : डॉ. उमा मीना

आत्मकथा में जीवन की स्मृतियाँ क्रमबद्ध रूप से एकत्रित होकर लेखक के जीवन एवं व्यक्तित्व का पारदर्शी चित्र प्रस्तुत करती हैं लेकिन दलित लेखक क...
 कामकाजी महिला दोहरा शोषण : डॉ॰ अंशु सिंह झरवाल

कामकाजी महिला दोहरा शोषण : डॉ॰ अंशु सिंह झरवाल

शोध प्रत्र में सर्वप्रथम मैं, ‘महिला’ शब्द पर विचार करना चाहती हूँ। संस्कृत में स्त्री और नारी शब्द का प्रयोग हुआ है। यास्क ने निरुक्त में ‘...
Uttarvarta Dec 2020

Uttarvarta Dec 2020

Uttarvarta Dec 2020 by amalesh prasad
आरती की दो कविताएं 1. `राजनीति और देश की सेना 2.  हैवानियत

आरती की दो कविताएं 1. `राजनीति और देश की सेना 2. हैवानियत

     1.   राजनीति और देश की सेना   दिल और जान से सरहदों पर खड़े हैं सीना अपना तानकर हिफाजत करते हैं देश की सैकडों दुश्मन मारकर ...