राजनीति

[राजनीति][twocolumns]

समाज

[समाज][twocolumns]

सिनेमा

[सिनेमा][twocolumns]

साहित्‍य

[साहित्‍य][twocolumns]

कैरियर

[कैरियर][twocolumns]

बहुसंख्यकों की समस्याओं पर आज होगी वार्ता: पी आई एल फाउंडेशन

नई दिल्ली। 25 अगस्त को मंडल कमीशन के अध्यक्ष बी पी मंडल की 99वीं जयंती है। बी पी मंडल का जन्म यूपी के वाराणसी में 25 अगस्त 1918 को हुआ था। लोग सामाजिक न्याय दिवस के रूप में उनकी जयंती को याद करते हैं। 

 पीआईएल फाउंडेशन का ऐतिहासिक कदम   
उनकी 99वीं जयतीं पर दिल्ली में एक कार्यक्रम किया जा रहा है। पिछड़े समाज के लिए किए गए उनके काम और योगदान की याद में यह कार्यक्रम पीआईएल फाउंडेशन करवा रहा है। यह कार्यक्रम शुक्रवार 25 अगस्त शाम 5 बजे आयोजित  किया जाएगा। दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर गांधी पीस फाउंडेशन में किया जाएगा।

 जस्टिस रविंद्र सिंह होंगे चीफ गेस्ट 
बहुसंख्यकों के विकास के बिना, क्या देश का विकास संभव हैपर इस कार्यक्रम में चर्चा की जाएगी। इस कार्यक्रम में इलाहबाद हाईकोर्ट के जस्टिस रविंद्र सिंह चीफ गेस्ट होंगे। कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद अली अनवर अंसारी, एडवोकेट आर के सिंह, वरिष्ठ पत्रकार अनिल चमरिया, शीबा असलम, एडवोकेट प्रभास कुमार, वरिष्ठ पत्रकार अनूप कुमार, एडवोकेट पी के यादव, कपिल इसापुरी, पत्रकार वीर भूषण, सामाजिक कार्यकर्ता नत्थू सिंह गुर्जर, सुप्रीम कोर्ट के वकील विजेंद्र कसानासुप्रीम कोर्ट के वकील सनोबर अली कुरैशीसुप्रीम कोर्ट की वकील अंबिका राय स्पीकर्स होंगे।

 बी.पी.मंडल का योगदान
बता दें कि 1977 में केंद्र में पहली बार जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आई, तब उसने 1 जनवरी, 1979 को बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल के के नेतृत्व में पिछड़ा आयोग (अनुच्छेद 340 के तहत ) गठन किया। तत्कालीन मोरारजी देसाई की सरकार ने 20 दिसंबर, 1978 को बीपी मंडल के नेतृत्व में पिछड़ा वर्ग आयोगगठित करने की घोषणा संसद में कर दी। इस आयोग की विज्ञप्ति 1 जनवरी, 1979 को जारी की गयी थी। आयोग ने सरकार को अपनी रिपोर्ट 31 दिसम्बर 1980 को दी।


7 सितम्बर 1990 को संवैधानिक 27 % मंडल आरक्षण केंद्रिय नौकरियो में लागू करने की घोषणा की गई थी।


आप अपना लेख, रचनाएं और शोध आलेख uttarvarta@gmail.com पर भेज सकते हैं।
   -संपादक